ब्रेकिंग न्यूज़
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा-जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं, के मंत्र का पूरी तरह पालन करना आवश्‍यकरक्सौल: पुरेन्दरा पंचायत के मुखिया ने हथियार से प्रहार कर एक व्यक्ति को गंभीर रुप से किया घायलमोतिहारी सेन्ट्रल बैंक रिजनल कार्यालय में भीषण आग, 4 घंटे के मशक्कत के बाद रात 8 बजे आग पर काबूचनपटिया, बेतिया और नौतन विधानसभा क्षेत्र में शांतिपूर्ण मतदान को प्रशासन पूरी तरह तैयार : कुंदन कुमारएनडीए के प्रत्याशी प्रमोद सिन्हा ने कहा:-अशोक सिन्हा के वीरगंज नेपाल स्थित घर से भारी मात्रा मे सोना बरामदगी की घटना से मेरा कोई सरोकार नहींरक्सौल पुलिस ने 36 लाख के चरस के साथ युवक को किया गिरफ्तारभारत-नेपाल सीमा: दशहरा पर्व मे नही खुलेगा बोर्डर, 17 को बोर्डर खुलने का खबर भ्रामकसमय रहते अगर सर्तक नहीं हुए तो आम हो जायेगी स्‍तन कैंसर बीमारी : डॉ वी पी सिंह
राष्ट्रीय
निलंबन के खिलाफ 8 विपक्षी सांसद धरने पर बैठे, हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित
By Deshwani | Publish Date: 21/9/2020 5:08:55 PM
निलंबन के खिलाफ 8 विपक्षी सांसद धरने पर बैठे,  हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित

नई दिल्ली। रविवार को राज्यसभा में हुए हंगामे की भेंट संसद का सत्र सोमवार को भी चढ़ गया। कांग्रेस, आम आदमी पार्टी (आप) और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के आठ सांसदों को रविवार को उप सभापति के सामने रूलबुक फाड़ने, वेल में जाने और माइक तोड़ने का प्रयास करने के लिए निलंबित कर दिया गया। इसके बाद निलंबित सांसदों ने बाहर जाने से मना कर दिया। संसद कई बार स्थगन के बाद दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई। निलंबित सांसद परिसर में ही महात्मा गांधी की प्रतिमा के नीचे धरने पर बैठ गए हैं।

 
बता दें कि आज सभापति वेंकैया नायडू ने उत्पाद एवं सेवा कर (जीएसटी) प्रतिपूर्ति का भुगतान नहीं किए जाने के कारण उत्पन्न हुई स्थिति पर ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर चर्चा शुरू कराने का प्रयास किया। लेकिन हंगामे के कारण इस पर चर्चा शुरू नहीं हो सकी और हंगामे के कारण बैठक नौ बजकर करीब 40 मिनट पर स्थगित कर दी। एक बार के स्थगन के बाद 10 बजे बैठक फिर शुरू होने पर भी सदन में विपक्षी सदस्यों का हंगामा जारी रहा और उपसभापति हरिवंश ने निलंबित सदस्यों को सदन से बाहर जाने को कहा, लेकिन निलंबित सदस्य सदन से बाहर नहीं गए।
 
हंगामे के बीच ही शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान विधियां (संशोधन) विधेयक, 2020 चर्चा के लिए पेश किया। सदन में हंगामा थमते नहीं देख 10 बजकर करीब पांच मिनट पर बैठक आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गई। इसके बाद बैठक फिर शुरू होने पर भी सदन में हंगामा जारी रहा। पीठासीन उपसभापति भुवनेश्वर कालिता ने बार बार निलंबित सदस्यों को सदन से बाहर जाने को कहा ताकि सदन में सुचारू रूप से कामकाज हो सके तथा नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद को अपनी बात कहने का मौका मिल सके। लेकिन आसन द्वारा की गयी अपील का कोई असर नहीं हुआ और सदन की कार्यवाही चार बार के स्थगन के बाद 12 बजकर करीब पांच मिनट पर पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई। 
 
बता दें कि राज्यसभा में किसान बिल पर रविवार को काफी हंगामा हुआ।  जिसके बाद 8 विपक्षी सांसदों को इस पूरे मॉनसून सत्र के लिए निलंबित कर दिया गया है। निलंबित सांसदों में टीएमसी के डेरेक ओ ब्रायन, आप के संजय सिंह, कांग्रेस के राजीव सातव और सीपीएम के केके रागेश शामिल हैं।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS