ब्रेकिंग न्यूज़
संसद भवन स्थित पार्टी कार्यालय में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ग्रहण की भाजपा की सदस्‍यतामेरी नजर में सभी जाति व धर्म के लोग एक समान: मेनका गांधीरक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद को बताया, 2019 की स्थिति के अनुसार सेना में कुल 45,634 पद रिक्तबसपा सुप्रीमो मायावती का बड़ा ऐलान, बसपा भविष्य में सभी चुनाव अकेले लड़ेगीमशहूर अभिनेत्री श्रुति हासन बॉलीवुड के बाद अब हॉलीवुड में अपना कदम रखेंगीपीजी मेडिकल कॉलेजों में मराठा आरक्षण पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इनकारअगस्ता वेस्टलैंड घोटाला मामला: राजीव सक्सेना की विदेश यात्रा के खिलाफ ईडी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई कलमुजफ्फरपुर से नई दिल्ली जा रही सप्तक्रांति एक्सप्रेस में लगी आग, ड्राइवर की सूझबझ से टला हादसा
राष्ट्रीय
तीन तलाक पर नए विधेयक को पेश करेगी मोदी सरकार, 17 जून से आरंभ हो रहा है बजट सत्र
By Deshwani | Publish Date: 13/6/2019 11:19:13 AM
तीन तलाक पर नए विधेयक को पेश करेगी मोदी सरकार, 17 जून से आरंभ हो रहा है बजट सत्र

नई दिल्ली। तीन तलाक पर प्रतिबंध के लिए केंद्र सरकार बजट सत्र में नया विधेयक पेश करेगी। कैबिनेट मीटिंग के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने यह जानकारी दी। जावड़ेकर ने कहा कि नया विधेयक फरवरी में पेश किए गए अध्यादेश का स्थान लेगा। जावड़ेकर ने उम्मीद जताई कि इस बार यह बिल राज्यसभा से भी पास करा लिया जाएगा।

 

नई सरकार का पहला बजट सत्र 17 जून से आरंभ हो रहा है। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में इस विधेयक को लोकसभा से तो पास करा लिया गया था लेकिन राज्यसभा में बहुमत न होने के कारण वहां ये पारित नहीं हो सका था।

 
संसदीय नियमों के अनुसार, जो विधेयक सीधे राज्यसभा में पेश किए जाते हैं, वो लोकसभा भंग होने की स्थिति में स्वत: समाप्त नहीं होते। वहीं, जो विधेयक लोकसभा में पेश किए जाते हैं और राज्यभा में लंबित रहते हैं, वो निचले सदन यानी लोकसभा भंग होने की स्थिति में अपने आप ही समाप्त हो जाते हैं। तीन तलाक बिल के साथ भी यही हुआ और इसी वजह से सरकार को नया विधेयक लाना पड़ रहा है।
 
 
लोकसभा में तीन तलाक पर कानूनी रोक वाला विधेयक फरवरी में पारित हो गया था। हालांकि, राज्यसभा में एनडीए सरकार के पास बहुमत का अभाव था, इसलिए ये वहां अटका रहा। अब सरकार बजट सत्र में इसे पेश करने और दोनों सदनों से पास कराने की उम्मीद कर रही है। अध्यादेश को भी कानून में तभी बदला जा सकता है जबकि संसद सत्र आरंभ होने के 45 दिन के भीतर वो पास करा लिया जाए। अन्यथा अध्यादेश की अवधि समाप्त हो जाती है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS