ब्रेकिंग न्यूज़
संसद भवन स्थित पार्टी कार्यालय में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ग्रहण की भाजपा की सदस्‍यतामेरी नजर में सभी जाति व धर्म के लोग एक समान: मेनका गांधीरक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद को बताया, 2019 की स्थिति के अनुसार सेना में कुल 45,634 पद रिक्तबसपा सुप्रीमो मायावती का बड़ा ऐलान, बसपा भविष्य में सभी चुनाव अकेले लड़ेगीमशहूर अभिनेत्री श्रुति हासन बॉलीवुड के बाद अब हॉलीवुड में अपना कदम रखेंगीपीजी मेडिकल कॉलेजों में मराठा आरक्षण पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इनकारअगस्ता वेस्टलैंड घोटाला मामला: राजीव सक्सेना की विदेश यात्रा के खिलाफ ईडी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई कलमुजफ्फरपुर से नई दिल्ली जा रही सप्तक्रांति एक्सप्रेस में लगी आग, ड्राइवर की सूझबझ से टला हादसा
राज्य
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दी हड़ताली डाक्टरों को चेतावनी, कहा- शुरू करो काम या होगी कार्रवाई
By Deshwani | Publish Date: 13/6/2019 4:49:14 PM
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दी हड़ताली डाक्टरों को चेतावनी, कहा- शुरू करो काम या होगी कार्रवाई

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आंदोलनरत चिकित्सकों को आज चेतावनी दी है। महानगर के एसएसकेएम अस्पताल में दोपहर हालात का जायजा लेने पहुंची मुख्यमंत्री को घेर कर चिकित्सकों ने नारेबाजी शुरू कर दी थी। इसके बाद सीएम ने कड़े रुख अपनाते हुए साफ कहा कि चिकित्सकों का इस तरह से आंदोलन बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। अगर चार घंटे के अंदर उनके आदेश का पालन करते हुए चिकित्सकों ने काम शुरू नहीं किया तो ठोस कार्रवाई की जाएगी। 

 
मुख्यमंत्री ने कहा कि बंगाल सरकार एक छात्र को डॉक्टर बनाने के लिए 25 लाख रुपये खर्च करती है। इस तरह से कार्य स्थगन बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि ये कैसे डॉक्टर हैं, जो लोगों का इलाज नहीं कर रहे और आंदोलन किए जा रहे हैं। सरकार इसे कतई नहीं सहेगी।
 
उल्लेखनीय है कि सोमवार की रात कोलकाता के नीलरतन सरकार (एनआरएस) अस्पताल में जूनियर चिकित्सकों को रोगी के परिजनों द्वारा पीटने के बाद से राज्य भर में चिकित्सक हड़ताल पर हैं। एनआरएस अस्पताल में तो किसी भी तरह से नए रोगियों का इलाज बंद कर दिया गया है जबकि कोलकाता समेत राज्य भर के अन्य सरकारी अस्पतालों ने आउटडोर सेवाएं बंद कर दी गई है। अधिकतर जगहों पर इमरजेंसी सेवा भी बंद है जिसकी वजह से लाखों रोगियों को परेशान होना पड़ रहा है।
 
बता दें कि ममता बनर्जी राज्य की मुख्यमंत्री होने के साथ-साथ स्वास्थ्य मंत्री भी हैं। प्रशासन की विफलता से बार-बार चिकित्सकों पर हो रहे हमले की जिम्मेदारी भी उन्हीं पर है, क्योंकि राज्य की गृह मंत्री भी वहीं हैं। घटना के करीब 60 घंटे बाद उन्होंने इस मामले पर मुंह खोला तो कड़े तेवर के साथ हड़ताली डाक्टरों को सिर्फ चार घंटे में काम पर लौटने का अल्टीमेटम दे दिया। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS