राज्य
खुला विश्व प्रसिद्ध शक्तिपीठ कामाख्या मंदिर का कपाट, श्रद्धालुओं ने किए मां के दर्शन
By Deshwani | Publish Date: 26/6/2019 2:44:45 PM
खुला विश्व प्रसिद्ध शक्तिपीठ कामाख्या मंदिर का कपाट, श्रद्धालुओं ने किए मां के दर्शन

गुवाहाटी। राजधानी के नीलाचल पहाड़ी पर स्थित विश्व प्रसिद्ध शक्तिपीठ कामाख्या मंदिर का कपाट आज सुबह श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोल दिया गया। प्रतिवर्ष अंबुबासी मेले के दौरान चार दिनों तक मंदिर का कपाट श्रद्धालुओं के लिए बंद रहता है। कहते हैं कि इस दौरान माता रानी रजस्वला होती हैं और राज्य के सभी मंदिरों में पूजा-पाठ नहीं होती है। अंबुबासी काल को बेहद शुभ माना जाता है। मुख्य रूप से तंत्र साधक इस दौरान अपनी साधना को पूरा करने के लिए पूजा-पाठ करते हैं।

 
इस वर्ष 22 से 26 जून तक चार दिवसीय अंबुबासी मेले का आयोजन हुआ है। माता का दर्शन करने के लिए बड़ी संख्या में भक्त कपाट खुलने का इंतजार करते रहे। आज तड़के मंदिर का कपाट खुला। जैसे ही मंदिर का कपाट खुला, लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं ने मंदिर का चक्कर लगाना शुरू कर दिया।
 
इस मौके पर सबसे पहले दर्शन-पूजन करने वालों में असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल और असम के वित्त आदि मामलों के मंत्री डॉ हिमंत विश्वशर्मा शामिल रहे। इस मौके पर मुख्यमंत्री सोनोवाल ने मंदिर में आने वाले सभी भक्तों का आभार जताते हुए देवी से राज्य के कल्याण और विकास के लिए प्रार्थना की। साथ ही मुख्यमंत्री ने मेले की सफलता के लिए शक्तिपीठ कामाख्या देवालय और सुरक्षा बलों का भी आभार जताया। 
 
उल्लेखनीय है कि अंबुबासी मेला कामाख्या मंदिर में देवी की वार्षिक माहवारी के सांकेतिक रूप में मनाया जाता है। मेले में देश-विदेश से लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। प्रति वर्ष लगने वाला यह ऐतिहासिक मेला श्रद्धालुओं को खासा आकर्षित करता है। पिछले वर्ष इस महोत्सव में 20 लाख से अधिक लोगों के आने का रिकॉर्ड बना था। इस वर्ष भी 20 लाख से अधिक श्रद्धालुओं के मेले में हिस्सा लेने का अनुमान है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS