ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोजमोतिहारी के झखिया में पुलिस ने घेराबंदी कर की कार्रवाई, शशि सहनी गिरफ्तार, 125 कार्टन अंग्रेजी शराब जब्तभोजपुरी सेंशेसन अक्षरा सिंह का नया गाना ‘कोरा में आजा छोरा’ रिलीज के साथ हुआ वायरल
बिहार
समस्तीपुर स्टेशन पर भूखे प्यासे प्रवासियों ने किया हंगामा
By Deshwani | Publish Date: 21/5/2020 6:46:24 PM
समस्तीपुर स्टेशन पर भूखे प्यासे प्रवासियों ने किया हंगामा

समस्तीपुर उमेश काश्यप। कोविड-19 जैसे खतरनाक महामारी को लेकर देश में लॉक डाउन का चौथा चरण जारी है। लॉक डाउन  के बीच लाखों की संख्या में प्रवासियों के आने का सिलसिला भी जारी है। देश के अलग अलग हिस्सो से प्रवासी ट्रेन से लौट रहे हैं। 

 
 
 
स्टेशन से उन प्रवासियों को उनके गांव तक पहुंचाने और उन्हें भोजन, पानी उपलब्ध कराने का  सरकार के तरफ से दावा किया जा रहा है। लेकिन  हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। आज समस्तीपुर रेलवे स्टेशन पर  विभिन्न प्रदेशों से अलग-अलग ट्रेनों से आए प्रवासी मजदूरों ने कुव्यवस्था को लेेकर जमकर हंगामा किया। यहां प्रशासन की तरफ से उन्हें  सिर्फ सुखा चूड़ा ही उपलब्ध कराया गया। 
 
 

 
वही प्रवासी पानी के लिए तरसते रहे। स्टेशन से उन्हें घर भेजने के लिए  वाहन की व्यवस्था भी नहीं की गई थी। जिसके बाद प्रवासी मजदूरों का आक्रोश भड़क गया। कुछ मजदूर भोजन और पानी के लिए स्टेशन से निकल बाजार में चले गए। इन प्रवासी मजदूरों का कहना था कि दूसरे प्रदेशों से लौटने के दौरान वहां की सरकार के द्वारा उन्हें भोजन और पानी उपलब्ध कराया गया लेकिन यहां अपने ही प्रदेश में उन्हें कोई सुविधा मुहैया नहीं कराई गई। 
 
 
 
 
उन्हें  भोजन भी फेंक कर दिया गया। जिसको लेकर वहां अफरा तफरी का माहौल  बन गया। इन मजदूरों का कहना था कि वह कोरोना से मरे या न मरे लेकिन भूख और प्यास से वह जरूर मर जाएंगे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS