ब्रेकिंग न्यूज़
जनता दरबार में भूमि विवाद के मामलों का हुआ निपटाराएसीटी पारा मेडिकल कॉलेज एन्ड हॉस्पिटल बिहार कौशल विकास योजना मिशन के द्वारा सीपीआर का प्रशिक्षण दिया गयास्कूली बच्चों ने निकाली जनसंख्या स्थिरीकरण संकल्प रैली, परिवार नियोजन के प्रति लोगों को किया जागरूकमहाभियोग: ट्रंप ने कहा- अमेरिका के इतिहास में ऐसे दोहरे मापदंड कभी नहीं देखेआरकॉम को जुलाई-सितम्बर तिमाही में 30,412 करोड़ रुपये का घाटासरकार ने जारी की पानी की रैंकिग, मुंबई का पानी सबसे बेहतर तो दिल्ली का सबसे खराबरजत शर्मा ने डीडीसीए के अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा, बताई ये वजहदिल्‍ली की वायु गुणवत्‍ता में सुधार, सुबह के समय 412 रहा एक्यूआई स्तर
बिहार
लोहिया की पुण्यतिथि: लोस चुनाव में हार के बाद पहली बार एक साथ दिखे महागठबंधन के सभी नेता
By Deshwani | Publish Date: 12/10/2019 5:24:19 PM
लोहिया की पुण्यतिथि: लोस चुनाव में हार के बाद पहली बार एक साथ दिखे महागठबंधन के सभी नेता

पटना। महागठबंधन में टूट की खबरों के बीच आज एक बार फिर एक मंच पर महागठबंधन की एकता दिखी। राम मनोहर लोहिया की 52वीं पुण्यतिथि पर आज बापू सभागार में आयोजित कार्यक्रम में महागठबंधन के सभी घटक दलों के नेता शामिल हुए। इस अवसर पर तेजस्वी यादव, जीतनाम मांझी, उपेंद्र कुशवाहा, शरद यादव, मुकेश साहनी सहित कई नेता एक साथ मंच पर नजर आए।
 
लोहिया की पूण्यतिथि के मौके पर महागठबंधन के नेताओं ने एकजुटता दिखाने की कोशिश की। लोकसभा चुनाव में मिली करारी शिकस्त के बाद पहली बार महागठबंधन के नेता एक मंच पर साथ नजर आए। इस मौके पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश पर जमकर शब्दों के बाण चलाए। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के लोग अफवाह फैला रहे हैं कि हम अंदर अंदर भाजपा के संपर्क में हैं। तेजस्वी ने इस बात को खारिज करते हुए कहा कि जब हमारे पिता ने सांप्रदायिक ताकतों से समझौता नहीं किया तो हमारे अंदर भी उनका ही खून है।
 
राजद नेता ने पिता लालू यादव को शेर बताते हुए कहा कि हम किसी की गीदड़ भभकी से डरने वाले नहीं हैं। इसके अलावा तेजस्वी ने कहा कि हम हारे नहीं, हराए गए हैँ। पटना नगर निगम पूरी तरह से फेल साबित हुआ है। उन्होंने कहा कि बिहार में आज स्थिति नाजुक है। नगर निगम में तीन-चार करोड़ का घाटा हुआ है।
 
मंच से कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने जलजमाव और डेंगू को लेकर नीतीश सरकार को घेरा और कहा कि दावा काफी किया गया था,  लेकिन आज परिणाम सबके सामने है। सरकार ने अपने दायित्व का निर्वहन नहीं किया, जिससे राज्य में चमकी बुखार से कई बच्चों की मौत हो गई।
 
उन्होंने कहा बाढ़ और जलजमाव ने सरकार के विकास कार्य की पोल खोलकर रख दी है। इन सबसे सरकार की नाकामी झलकती है।  राज्य में मॉब लिंचिंग की घटनाएं ज्यादा बढ़ गई है और सरकार सुशासन का राग अलापती है। इस सरकार के सुशासन का नारा बेकार साबित हो रहा है। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS