ब्रेकिंग न्यूज़
बीरगंज में नेपाल पुलिस ने छापेमारी कर तस्करी के 6 भैंस के साथ तीन लोगों को किया गिरफ्तारदिव्या शक्ति ने पहले प्रयास में ही सिविल सर्विस परीक्षा में मारी बाजीबांग्लादेश: पिछले 24 घंटे में बाढ़ की स्थिति में हुआ सुधारअयोध्या राम मंदिर: कल होने वाले भूमि पूजन को लेकर भव्य तैयारीदेश में कोरोना वायरस से 12 लाख 30 हजार 500 से अधिक रोगी हुए स्वस्थकोविड-19 पाॅजिटिव मरीजों को हर हाल में मुहैया करायें मेडिसिन किट्स: डीएमबेतिया के गली-नाली पक्कीकरण योजनान्तर्गत पेवर ब्लाॅक का करें इस्तेमाल: जिलाधिकारीमोतिहारी डीएम ने कहा - कोविड-19 सैंपलिंग में प्रगति नहीं तो होगी कार्रवाई, अनुपस्थित लैब टेक्नीशियन व प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी का रुकेगा वेतन
बिहार
पश्चिम चम्पारण: बाढ़ से क्षतिग्रस्त सड़क, पुल-पुलिया व तटबंध का मरम्मति अविलंब करायें: कुंदन कुमार
By Deshwani | Publish Date: 30/7/2020 8:44:14 PM
पश्चिम चम्पारण: बाढ़ से क्षतिग्रस्त सड़क, पुल-पुलिया व तटबंध का मरम्मति अविलंब करायें: कुंदन कुमार

बेतिया। अवधेश कुमार शर्मा। पश्चिम चम्पारण जिला अंतर्गत बाढ़ आपदा से क्षतिग्रस्त सड़के और पुल पुलिया का निर्माण और मरम्मत कार्य में सभी संबंधित कार्यपालक अभियंताओं, कनीय अभियंताओं ने बेहतर कार्य प्रदर्शन किया है। जिस प्रकार बाढ़ से सुरक्षा के लिए उन्होंने कर्तव्य निवर्हन किया है, उसी प्रकार हमेशा कार्य करते रहें। उपर्युक्त विचार पश्चिम चम्पारण जिला पदाधिकारी कुंदन कुमार ने व्यक्त करते हुए कहा कि जिला में बाढ़ के कारण सड़कें, तटबंध, पुल-पुलियां क्षतिग्रस्त हुए हैं, उनका स्थल निरीक्षण कर अद्यतन प्रतिवेदन तैयार कर, शीघ्रताशीघ्र निर्माण/मरम्मत का कार्य पूण करायें। जिससे बाधित आवगमन सुलभ कराया जा सके। समाहरणालय सभाकक्ष में आयोजित आपदा विभाग की समीक्षात्मक बैठक में ड़ीएम कुंदन कुमार ने पदाधिकारियों को उपर्युक्त निदेश दिया। जिला पदाधिकारी ने श्री कुमार ने कहा कि सड़क, पुल-पुलिया, तटबंध के निर्माण व  मरम्मत कार्य में किसी भी प्रकार की कोई शिकायत नहीं मिलनी चाहिए। निर्माण कार्य में प्रयुक्त सामग्री गुणवतापूर्ण हो, निर्माण कार्य भी गुणवत्तापूर्ण हो इसका विशेष ध्यान रखें। इस कार्य में गड़बड़ी करने वाले संबंधित व्यक्तियों के विरूद्ध सख्त विभागीय कार्रवाई की जायेगी। 




उन्होंने कहा कि बाढ़ आपदा के समय चम्पारण तटबंध, पीपी तटबंध सहित अन्य प्रभावित तटबंधों मंगलपुर, अमवा खास, झारमहुई स्थलों पर ससमय (प्रोटक्शन) सुरक्षात्मक कार्य कराया जाना सराहनीय रहा है। जिला आपदा शाखा ने बताया कि बाढ़ आपदा से जिला के पिपरासी, बगहा-02, नौतन, ठकराहां, मझौलिया, सिकटा, चनपटिया, योगापट्टी प्रखंड आंशिक रूप से प्रभावित है। वहाँ सामुदायिक किचेन, पॉलीथिन शीट्स, सूखा राशन की समुचित व्यवस्था की गयी है। स्वास्थ्य विभाग वहाँ सभी प्रकार की आवश्यक दवाईयां मुहैया करा रहा है। वहीं पशुपालन विभाग भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पशु दवा एवं पशु चारा लगातार मुहैया करा रहा है। डीएम की समीक्षा के क्रम में कार्यपालक अभियंताओं ने बताया कि बगहा अनुमंडल अंतर्गत कुल 17 जगहों पर सड़क क्षतिग्रस्त हो गयी है। जिसमें से 01 जगह कार्य प्रारंभ कर दिया गया है तथा पानी कम होने के साथ ही शेष क्षतिग्रसत सड़कों का निर्माण करा दिया जायेगा। बेतिया अनुमंडल अंतर्गत कुल 39 जगहों पर सड़क क्षतिग्रस्त हुई है, जिसमें से 15 स्थलों पर कार्यारम्भ है, शीघ्र ही अन्य स्थलों पर निर्माण कार्य प्रारंभ हो जायेगा। नरकटियागंज अनुमंडल अंतर्गत कुल 52 जगहों पर सड़क क्षतिग्रस्त हुआ है। जिसकी मरम्मत करने का कार्य प्रारंभ है। जिला पदाधिकारी ने कहा कि अविलंब टूटी हुई सड़कों का निर्माण कराना सुनिश्चित करें पदाधिकारी। उपर्युक्त समीक्षा के क्रम में अभियंताओं ने बताया कि बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल, बगहा ने मिर्जा टोली में गैबियन लेईंग का कार्य 50 मीटर की लम्बाई में कराया गया है। मंगलपुर तटबंध में सड़क को मोटरेबुल करने के लिए ब्रीकबैट का निर्माण कराया है। चम्पारण तटबंध के 9.5 किमी. पर निर्माणाधीन ए.एफ.एस. गेट के पास आवागमन सुगम करने के लिए ब्रीकबैट का कार्य कराया गया है। मसान नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण झारमहुई गांव के समीप कटाव होने लगा। जल निस्सरण प्रमंडल के अभियंताओं ने त्वरित गति से कार्य करते हुए 1000 ई.सी. बैग एवं 300 एन.सी. बैग से कटाव निरोधक कार्य कराया है। 




कटाव पर पूर्णतः अंकुश लगाने के उदेश्य से उपर्युक्त स्थल पर बम्बू पायलिंग का कार्य भी करा दिया गया है। जोगिया पंचायत के शेरवा गांव के पास मसान नदी के कटाव पर त्वरित कार्रवाई करते हुए 400 एन.सी. बैग एवं 200 बम्बू पायलिंग का कार्य पूरा किया गया है। इसी प्रकार सपही पंचायत के इमरती कटहरवा गांव के नजदीक भी 333 बम्बू पायलिंग तथा 200 एन.सी. कार्य से कटाव निरोधक कार्य कराया गया है। बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल-02 पडरौना ने पी.पी. तटबंध पर 0.00 किमी. से 28.00 किमी. के बीच लगभग 87 जगहों पर विभिन्न आकार के रैनकट की मरम्मती ई.सी. बैग,. डालकर कर दी गयी है। पीपी तटबंध के 32.393 एवं 32.408 किमी. पर नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण स्टर्ड हो गया। बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल-01, पडरौना ने 18853 ई.सी. बैग, 514 एन.सी., 07 बी.ए. वायर क्रेट, 72 जियो बैग एवं पी.पी. रोध गैबियन डालकर मरम्मति का कार्य सम्पन्न कराया गया है। विगत दिनों हुई बारिश के कारण पी.पी. तटबंध पर 28.00 किमी. से 35.00 किमी. के बीच लगभग 80 जगहों पर विभिन्न आकार का रैनकट हो गया, जिसकी मरम्मति ई.सी. बैग डालकर करा दी गयी है। इस अवसर पर सहायक समाहर्ता कुमार अनुराग, सहायक समाहर्ता नंदकिशोर साह सहित संबंधित विभागों को कार्यपालक अभियंता उपस्थित रहे। 

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS