ब्रेकिंग न्यूज़
महापर्व छठ की समाप्ति के बाद जमा हुए जिले के वरिष्ठ क्रिकेट खिलाड़ी, हुआ फैंसी क्रिकेट मैच का आयोजनझारखंड: इन जिलों में कोरोना संक्रमण की दर में हुई काफी वृद्धिकोविड-19: मुख्‍यमंत्री अरविन्‍द केजरीवाल ने आज नई दिल्‍ली में सर्वदलीय बैठक कीबेल्जियम ने डेनमार्क को 4-2 से हराकर नेशंस लीग के सेमीफाइनल बनाई अपनी जगहहीरो मोटोकार्प ने त्योहारों के दौरान की 14 लाख से अधिक मोटरसाइकिल और स्कूटर की बिक्रीएयर मार्शल वीआर एवीएसएम वीएम ने जम्मू में फ्रंटलाइन एयर बेस का किय दौराराष्‍ट्रपति ने कहा- भारतीयता ही जे एन यू की पहचान है और इसे लगातार मजबूत किया जाना चाहिएसमस्तीपुर : पटना से दरभंगा एवं सहरसा के लिये चलेगी स्पेशल मेमू सवारी गाड़ी
बिहार
एनडीए प्रत्याशी प्रमोद सिन्हा ने कहा:-अशोक सिन्हा के वीरगंज नेपाल स्थित घर से भारी मात्रा मे सोना बरामदगी की घटना से मेरा कोई सरोकार नहीं
By Deshwani | Publish Date: 18/10/2020 10:00:06 PM
एनडीए प्रत्याशी प्रमोद सिन्हा ने कहा:-अशोक सिन्हा के वीरगंज नेपाल स्थित घर से भारी मात्रा मे सोना बरामदगी की घटना से मेरा कोई सरोकार नहीं

रक्सौल। अनिल कुमार। क्लियरिंग एजेंट रक्सौल के हरैया निवासी अशोक सिन्हा के वीरगंज नेपाल स्थित घर से भारी मात्रा मे सोना बरामदगी की घटना से मेरा कोई सरोकार नहीहै। एनडीए के भाजपा  विधायक प्रत्याशी प्रमोद सिन्हा ने रविवार को आयोजित पत्रकार सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा। इस मामले मे प्रमोद सिन्हा का नाम आने पर उन्होने कहा कि  सोना बरामद मेरे भाई के यहाँ से हुआ है  न कि मेरे यहां से वावजूद इसके बदनाम मुझे और मेरे पार्टी को किया जा रहा है। 





हम चार भाई है परिवार बड़ा होनेसे आपसी सहमति से हमलोग अलग हो गए। हम चारो भाई पिछले 15 वर्षों से अलग-अलग हैं। सबका आवास और कारोबार भी अलग है। अगर कागजी बात करें तो वर्ष 2012 में ही हमारे परिवार के बीच बँटवारा हो चुका है। उसका कागजात भी मेरे पास उपलब्ध है। एक षडयंत्र के तहत मेरे अपने ही लोग संसाधन जुटाकर  मेरे खिलाफ साजिश कर इस मामले मे मेरा नाम जबरन घसीट रहे हैं। जिससे की मेरा और बीजेपी पार्टी का छवी धूमिल  हो  रहा है। अगर मै साबित होता हूँ तो हम चुनाव नही लड़ेगे। 




क्योंकि हम पार्टी को बदनाम नहीं होने देगे। इस मामले में हमसे बयान लिए बगैर एक तरफा खबर चलाया गया है। मुझे भी मीडिया से पता चला कि 23 किलोग्राम सोना को नेपाल पुलिस ने बरामद किया है। लेकिन आश्चर्य है  उक्त सोने की कीमत 1 सौ 19 करोड़ मीडिया पर क्यों दिखाई जा रही है। जबकि दस बारह करोड़ उसका कीमत होगा। उन्होंने यह भी बताया कि इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट बनने के समय सरकार द्वारा सभी भाईयो की भूमि अधिग्रहण की गयी  थी उसमे भी पैसा मिला था और उसके बाद बिहार सरकार के विधुत बोर्ड की भूमि अधिग्रहण पर भी सवा सात करोड़ रुपया मिला था। यह सोना उस पैसे का भी हो सकता है। खैर मुझे इससे कोई लेना-देना नहीं है। इस मामले में मुझे और न घसीटा जाए और न पार्टी को बदनाम किया जाये। मौके पर प्रो. (डॉ.) अनिल सिन्हा, राकेश जायसवाल, गुड्डू सिंह, ई. जितेंद्र कुमार, राजकिशोर राय व  सन्नी पटेल आदि मौजूद थे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS