ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी के सुपारी किलर का झारखंड में भी डिमांड, धनबाद में व्यवसायी हुई हत्या के दो आरोपित सुगौली से गिरफ्तार, यहां भी करनेवाले थे प्रोपर्टी डीलर का मर्डरसमस्तीपुर: 11 महीने बाद पांच मार्च से कई रेलखंड पर चलायी जाएगी बीस स्पेशल डेमू एक्सप्रेसकेंद्रीय शिक्षा मंत्री ने भारतीय ज्ञान परंपरा पाठ्यक्रम कार्यक्रम की अध्ययन सामग्री का विमोचन कियाSBI ने गृह ऋण पर ब्‍याज दर 6.7 प्रतिशत कीमोतिहारी में विभिन्न मुहल्लों में विकास दिवस के रूप मनाया गया बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का 70 वां जन्मदिनबैंक से रुपए निकालने के बाद बरतें सतर्कता, मोतिहारी में झपटमारों ने स्कॉर्पियों से उड़ाए 13 लाख नगदसमस्तीपुर: सरायरंजन में शार्ट सर्किट, महादलित के दर्जन भर घर राख, लाखों की क्षतिवाइस एडमिरल अजेंद्र बहादुर सिंह ने फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, ईएनसी का पदभार संभाला
बिहार
समस्तीपुर : चिकित्सा के क्षेत्र में देशज पद्धति को दुरुस्त करने की जरुरत
By Deshwani | Publish Date: 21/2/2021 9:09:53 PM
समस्तीपुर : चिकित्सा के क्षेत्र में देशज पद्धति को दुरुस्त करने की जरुरत

समस्तीपुर। उमेश काश्यप। शहर के काशीपुर न्यू प्रोफेसर कॉलोनी में रविवार को श्रद्धा फिजियोथेरेपी क्लिनिक एंड रिसर्च रिहेब सेंटर का शुभारंभ किया गया। 




इसका उदघाटन भाजपा के प्रदेश महामंत्री सुशील कुमार चौधरी ने फिता काटकर किया। इस दौरान आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि भारत सरकार के पूर्व मंत्री सह एमएलसी डॉ. संजय कुमार पासवान ने कहा कि आज के बदलते परिवेश में चिकित्सा के क्षेत्र में देशज पद्धति को दुरुस्त करने की जरुरत है। लोग पुरानी चिकित्सा पद्धति को भूलते जा रहे हैं। पुरानी चिकित्सा पद्धति पर ही फिजियोथेरेपी भी आधारित है। 




इसमें नये तरीके से रोगों का इलाज किया जाता है। उन्होंने कहा कि पूरे देश में फिजियोथेरेपी की मांग बढ़ती जा रही है। कोविड के बाद  पूरे देश में लोग स्वास्थ्य के प्रति सजग हुए हैं। स्वागत डॉ. जय नारायण मिश्र एवं संचालन हरेराम चौधरी ने किया। मौके पर सर्जन डॉ. सुशांत, विष्णुशंकर झा, भाजपा नेता राम सुमरन सिंह, शशिकांत आनंद, शैलेंद्र सिंह, डॉ. त्रिभुवन नाथ मिश्र, बालमुकुंद मिश्र, डॉ. जेबी मिश्रा, डॉ. भीजे मिश्रा, सुशील झा आदि थे। डॉ. जेबी मिश्रा ने बताया कि फिजियोथेरेपी की मदद से पुराने से पुराने रोगों का इलाज  संभव है। आर्थोपेडिक एवं नस से संबंधित समस्याओं का समाधान  आसानी से किया जाता है। बदलते जीवन शैली में लोग तरह-तरह की बीमारी से ग्रसित हो रहे हैं। फिजियोथेरेपी में बिना किसी दवाई एवं सर्जरी के तकलीफों को दूर किया जाता है। इलाज के तुरंत बाद मरीजों को राहत भी मिलती है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS