ब्रेकिंग न्यूज़
बेखौफ अपराधियों का कहर, दिनदहाड़े पुलिसकर्मी को गोली से भूना, कार्बाइन ले भागेएमजंक्शन अवार्ड्स में अडानी ग्रुप को मिला सर्वश्रेष्ठ कोयला सर्विस प्रोवाइडर का पुरस्कारटी20 विश्व कप के लिये युवाओं के पास मनोबल बढ़ाने का बेहतरीन मंच: शिखर धवनबिपाशा के बॉलीवुड में 18 साल, 'अजनबी' से की थी बॉलीवुड करियर की शुरुआतराष्ट्रपति ट्रंप का बड़ा फैसला, सऊदी अरब और UAE में तैनात होगी अमेरिकी सेनाउत्तर प्रदेश: पटाखा फैक्टरी में भीषण विस्फोट, 6 लोगों की मौत, कई घायलहरियाणा व महाराष्ट्र के बाद अब झारखंड में विधानसभा चुनाव की तारीख का इंतजारएक लोकसभा सीट समेत बिहार की पांच विधानसभा सीटों पर उपचुनाव 21 अक्तूबर को, 24 को होगी मतगणना
बिहार
दिनेशलाल यादव निरहुआ ने की बिहार में 500 थियेटर के साथ एजुकेशन को जोड़ने की पहल
By Deshwani | Publish Date: 17/8/2019 6:22:04 PM
दिनेशलाल यादव निरहुआ ने की बिहार में 500 थियेटर के साथ एजुकेशन को जोड़ने की पहल

पटना। सिनेमा से एजुकेशन को जोड़ने की दिशा में भोजपुरी सिनेमा के जुबली स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ ने एक सराहनीय पहल करते हुए आज बिहार में मिनी थियेटर 'जादूज @ निरहुआ’ को लांच किया। इस मौके पर पटना के होटल रिपब्लिक में आयोजित एक संवाददाता सम्‍मेलन में दिनेश लाल यादव निरहुआ ने कहा कि जादू मिनी थियेटर के जरिये न सिर्फ सिनेमा के क्षेत्र में नयी क्रांति आयेगी, बल्कि इसके जरिये शिक्षा को भी जोड़ा जायेगा। 'जादूज @ निरहुआ’ मिनी थियेटर का निर्माण को मनोरंजन के साथ ही शिक्षा के उद्देश्‍य से जोड़ा गया है।  इसलिए हमने ‘मिशन 500 : हर तहसील में एक सिनेमा’ का संकल्‍प लिया है।

 
निरहुआ ने बताया कि बिहार की जनसंख्या तकरीबन 09 करोड़ है, लेकिन यहां करीब 100 थियेटर हीं हैं। जबकि अकेले आंध्रप्रदेश की 05 करोड़ की जनसंख्या पर वहां लगभग दो हजार से अधिक थियेटर हैं। इसलिए हमारी सोच है कि हम हर तहसील में एक मिनी थियेटर का शुभारंभ करें, जहां भोजपुरी, हिंदी और हॉलीवुड सिनेमा के साथ कबड्डी जैसे अन्‍य गेम्‍स का स्‍क्रीनिंग होगी। इसके अलावा सुबह 7 से 10 बजे तक थिएटर के माध्यम से युवाओं को आईआईटी और आईआईएम से संबंधित शिक्षा भी दी जाएगी।
 
निरहुआ ने बताया कि सिनेमा न सिर्फ मनोरंजन का साधन है बल्कि लोगों के बीच संदेश देने का भी काम करता है। गांव के दूरदराज इलाकों में सिनेमा थियेटर नही होने की वजह से महिलायें सिनेमा देखने में वंचित रह जाती थी। अब तहसील में मिनी थियेटर खोले जाने से उन्हें सिनेमा देखने का अवसर मिलसकेगा। सिनेमा से लोगों में राष्ट्रीयता की भावना उत्पन्ना होती है। साथ ही कुछ शोज तो महिलाओं के लिए फ्री ऑफ कॉस्‍ट भी होंगी। 
 
 
संवाददताता सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए जादूज के सीईओ राहुल मेहरा ने कहा कि आज सिनेमा को बढ़ावा देने के लिए बिहार,उत्तर प्रदेश और झारखंड में मिनी थियेटर खोले जाने की जरूरत है। हमनें इस बारे में सिंगल थियेटर के मालिक से भी बातचीत की और उन्हें यह कांसेपेट अच्छा लगा और उन्होंने कहा कि इसपर काम किया जा सकता है। उन्होंने कहा बिहार ही नहीं पूरे देश भर में थियेटर की कमी है। जो थियेटर हैं वह बहुत ही बड़े और महंगे हैं जो आम जनता की पहुंच से काफी दूर है। ऐसे में आम लोगों की परेशानी को देखते हुये हम हमलोग मिनी थियेटर का निर्माण करने जा रहे हैं। हमलोग बिहार ,उत्तरप्रदेश और झारखंड के हर तहसील में एक मिनी थियेटर का निर्माण कर रहे है। जो 800 से 1000 स्क्वायर फीट के दायरे में बनेगा जिसमें 70 से 80 के लगभग दर्शकों की क्षमता होगी। 
 
उन्‍होंने बताया कि एक सिनेमा की परिकल्पना के साथ उतरी 'जादूज @ निरहुआ’  का सपना उत्तर प्रदेश और मध्य भारत में सिनेमा के परिदृश्य को 'अगली पीढ़ी के मिनी-थियेटरों' केनिर्माण से बदलने का है। हमें निरहुआ के साथ जुड़ने पर बहुत गर्व है। हमारा उद्देश्य मध्य भारत में मनोरंजन और शिक्षा को आकार देना है। मिनी थियेटर पूरा थियेटर वातानुकूलित होगा। इसके अलावा इसमें हाईटेक सुविधा होगी जिसमें थ्री डी और वीएफएक्स भी होगा। इसमें मनोरंजन के साथ हम लोग सिनेमा के क्षेत्र में भविष्य बनाने वाले लोगों के लिये तकनीकी शिक्षा के क्लासेस भी चलाएंगे ताकि जो गरीब और गांव के होनहार बच्चे है वह पढ़ सके। इस तरह की पहल से सिनेमा और मनोरंजन के साथ ही रोजगार के अवसर पैदा होंगे।
 
जादूज के बिजनेस डेवलपमेंट मैनेजर मनीष शर्मा ने बताया कि अभी बिहार के दरभंगा, छपरा, बेगूसराय, समस्तीपुर और मुजफ्फपुर में शुरूआती दौर में मिनी थियेटर खोले जा रहे हैं। साल के अंत तक बिहार में 15 थियेटर शुरू कर दिये जायेंगे। उन्‍होंने ने कहा कि 'जादूज @ निरहुआ’ मिनी थियेटर में हिंदी, भोजपुरी, बच्चों और महिलाओं पर आधारित गुणवत्तापूर्ण फिल्में दिखायी जायेंगी। 
 
इस मिशन की शुरूआत पिछले वर्ष उत्तरप्रदेश से शुरू की गयी थी। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद ,बनारस ,जौनपुर ,मुरादाबाद ,आजमगढ़ समेत कई जिलों में मिनी थियेटर बनाये जा रहे हैं। हमारा लक्ष्य तीन साल के अंदर 500 मिनी थियेटर बनाने का है। उन्होंने कहा कि मिनी थियेटर बनाने के इच्छुक लोग दस लाख रूपये निवेश कर हमारे पार्टनर बन सकते हैं। इसके बाद हमारी कंपनी भी उन्हें मदद करेगी। हमारे बीच यह एग्रीमेंट दस वर्षो का होगा। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS