बिहार
आरजेडी का लॉ एंड ऑर्डर को लेकर विधानसभा में प्रदर्शन, सीएम नीतीश से मांगा इस्तीफा
By Deshwani | Publish Date: 12/2/2019 3:11:44 PM
आरजेडी का लॉ एंड ऑर्डर को लेकर विधानसभा में प्रदर्शन, सीएम नीतीश से मांगा इस्तीफा

पटना। बिहार विधानमंडल के बजट सत्र के दूसरे दिन राजद और वामपंथी विधायकों ने सदन के बाहर जमकर हंगामा किया। विपक्ष का आरोप है कि सरकार सूबे में अपराध पर नियंत्रण नहीं कर पा रही है। हर रोज हत्या और लूट की वारदात हो रही है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की इसकी जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे देना चाहिए।

 
राजद नेता तेज प्रताप यादव भी बजट सत्र में हिस्सा लेने पहुंचे। उन्होंने कहा कि हर रोज धार्मिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश हो रही है। सरकार धर्म को मुद्दा बनाने की पुरजोर कोशिश कर रही है, लेकिन इस बार फासीवादी ताकतें कमजोर पड़ जाएगी। तेजप्रताप ने कहा कि बिहार में अपराध बेलगाम है और सरकार लाचार है। सीएम मुंह मियां मिट्ठु बन रही है और बेशर्मी का ढिंढोरा पीट रही है। 
 
वामपंथी विधायकों ने सरकार से रसोइयों को सरकारी कर्मचारी का दर्जा और 18 हजार रुपए मानदेय देने की मांग की है। सीपीआई का कहना है कि सरकार न्यूनतम मजदूरी कानून का उल्लंघन करना बंद करे। सरकार रसोइयों का हड़ताल जल्द खत्म कराए। वामपंथी विधायकों ने सरकार से सवाल किया कि रसोइयों को 12 महीने की बजाय सिर्फ 10 महीने का मानदेय क्यों दिया जा रहा है?
 
आपको बता दें कि बिहार सरकार वित्तीय वर्ष (2019-20) के लिए आज सदन में बजट पेश करेगी। बिहार के उपमुख्यमंत्री और वित्त मंत्री सुशील मोदी बजट पेश करेंगे। इस वर्ष 1.91 लाख करोड़ रुपए का बजट पेश किया जाएगा। बिहार सरकार इस वर्ष सबसे अधिक शिक्षा के क्षेत्र में खर्च करेगी। इसके लिए 20309 करोड़ रुपए खर्च करने का लक्ष्य रखा गया है। वहीं, ग्रामीण विकास विभाग को 15 हजार 814 करोड़ रुपए दिए जाएंगे।
 
इस वित्तीय वर्ष में ग्रामीण कार्य के लिए 9896 करोड़, समाज कल्याण विभाग को 6997 करोड़, ऊर्जा विभाग को 4583 करोड़ और पथ निर्माण विभाग के लिए 5936 करोड़ रुपए का बजट रखा गया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS