ब्रेकिंग न्यूज़
केविवि की स्नातक उत्तीर्ण और परास्नातक छात्राओं को मिलेगा मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना का लाभ, एकमुश्त 25000 की मिल सकती है राशिसड़क हादसे में शिक्षिका गंभीर रूप से घायल, प्राथमिक उपचार के बाद बेतिया रेफरसांसद डॉक्टर संजय जयसवाल ने उच्च स्तरीय बैठक में नेपाल बॉर्डर पर उठ रही समस्याओं के समाधान पर विचार विमर्श कियाअजय कुमार भल्ला बने नए गृह सचिव, मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने दी मंजूरीमनसे प्रमुख राज ठाकरे पूछताछ के लिए पहुंचे ईडी दफ्तर, दफ्तर के बाहर धारा-144हजारों के तादाद में युवक-युवतियां, महिलाओं समेत आम जनों ने ली भाजपा की सदस्यताआशीष परियोजना डंकन अस्पताल रक्सौल के द्वारा पनटोका पंचायत भवन के प्रांगण में नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजनएक दिवसीय प्रखंड स्तरीय कृषि समन्यवय कार्यक्रम रक्सौल के कृषि भवन में आयोजित, योजनाओं के बारे में किसानों को दी जानकारी
झारखंड
विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला कल से, अर्घा से जलार्पण करेंगे कांवरिये
By Deshwani | Publish Date: 16/7/2019 5:11:17 PM
विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला कल से, अर्घा से जलार्पण करेंगे कांवरिये

रांची। द्वादश ज्योतिर्लिंगों में सर्वाधिक महिमामंडित बाबा वैद्यनाथ कामनालिंग के दरबार में एक माह चलने वाला विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला 17 जुलाई से शुरू हो जाएगा। मेले का उद्घाटन कल मुख्यमंत्री रघुवर दास झारखंड-बिहार की सीमा पर स्थित दुम्मा में करेंगे। मेले को लेकर लंबे समय से तैयारियां चल रही हैं। मॉनिटरिंग भी कई स्तरों पर हाे रही है। श्रावणी मेले को लेकर लगभग सभी तैयारियां पूरी कर ली गईं हैं। देवघर जिला प्रशासन को अनुमान है कि इस साल बाबा वैद्यनाथ के जलाभिषेक के लिए 40 से 45 लाख श्रद्धालु देवघर पहुंचेगे।

 
बिहार के सुल्तानगंज से नंगे पांव 105 किमी की पैदल कांवर यात्रा कर झारखंड के देव नगरी पहुंचने पर जलार्पण के लिए बीएड कॉलेज से लाइन लगेगी। शिवगंगा के पश्चिमी किनारे नेहरू पार्क से मानसरोवर तट होते हुए बाबा मंदिर तक श्रद्धालु पहुंचेंगे। अस्थायी स्तर पर इंट्रेंस कॉप्लेक्स में भक्तों के लिए तमाम सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं। वहीं, सीसीटीवी के माध्यम से उन्हें मंदिर और रास्तों की गतिविधियों से भी अवगत कराया जाता रहेगा। जल्द पूजा की चाहत रखने वाले भक्तों के लिए शीघ्र दर्शनम् पास की व्यवस्था के लिए कई काउंटर बनाए गए हैं। निःशक्त श्रद्धालुओं के लिए भी अलग से बाबा वैद्यनाथ मंदिर में निकास द्वार के बाहर व्यवस्था की गई है। विशेष प्रकार के पात्र तैयार कराए गए हैं, जिसमें निःशक्त श्रद्धालु जल भरेंगे और मशीन के माध्यम से उस जल को सीधे बाबा वैद्यनाथ पर अर्पित कर दिया जाएगा। जलपात्र के निकट टीवी लगा रहेगा, जिसमें वे अपना जल अर्पित होते सीधे देख सकेंगे।
 
देवघर में जलार्पण के बाद श्रद्धालुओं के बासुकीनाथ जाने की परंपरा है। बाबा वैद्यनाथ कामनालिंग पर जल अर्पित करने के बाद कांवरिये बाबा बासुकीनाथ (फौजदारी बाबा) पर जलाभिषेक करते हैं, अन्यथा पूजा अधूरी मानी जाती है। इसको ध्यान में रखते हुए सरकार ने वहां भी सुविधा और सुरक्षा की व्यापक व्यवस्था की है। पूरे सावन के बाद भादो में भी झारखंड-बिहार के अलावा पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, ओड़िशा समेत देश के विभिन्न हिस्साें से श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। 
 
बाबा वैद्यनाथ पर जलार्पण करने के लिए देश.विदेश से पहुंचने वाले शिवभक्ताें की सुविधा के लिए मानसरोवर के निकट से अलग रास्ते का निर्माण कराया गया है, ताकि लाइन लगने में उन्हें किसी तरह की परेशानी न हाे। मानसरोवर के निकट से बनाए गए रास्ते के सहारे कतारबद्ध होने वाले श्रद्धालु जलसार पार्क होते हुए बीएड कॉलेज पहुंचेंगे। बाबा मंदिर वीआईपी गेट के बाहर गंदगी का अंबार नहीं दिखेगा। शहर व मेला क्षेत्र को स्वच्छ रखने के लिए कुंभ मेला के सफाई कर्मियों सहित अन्य कर्मियों को भी लगाया गया है। अन्य वर्षों से अलग इस वर्ष मेला क्षेत्र एलइडी व स्पाइरल लाईट से जगमग रहेगा। नगर निगम की ओर से पूरे मेला क्षेत्र में हर पोल पर एलइडी लाइट लगायी गयी है।
 
राजकीय श्रावणी मेला के दौरान देवघर आने वाले श्रद्धालुओं को बेहतर से बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने के मद्देनजर चौतरफा तैयारियां की गई हैं। श्रद्धालुओं के स्वागत को लेकर बैद्यनाथ धाम को बेहतर और आकर्षक लुक देने का काम किया गया है। बाबाधाम को आकर्षक विद्युत व्यवस्था के साथ दूधिया रोशनी से नहलाया गया है। श्रद्धालुओं के स्वागत में जगह-जगह पर स्पाइरल लाइट और झालर लाइट से शहर को दुल्हन की तरह सजाया गया है। 
 
बासुकीनाथ धाम में सोमवार और मंगलवार को अरघा से बाबा पर जलार्पण होगा। भीड़ बढ़ने पर अन्य दिनों में भी अरघा सिस्टम से जलार्पण की व्यवस्था की जा सकती है। पूरे सावन वीआईपी पूजा पर रोक रहेगी। जबकि शीघ्र दर्शनम का कूपन कटा कर कोई भी श्रद्धालु बाबा की पूजा कर सकता है। डीसी राजेश्वरी बी ने इस बार स्वच्छता और विनम्रता का पालन करने का निर्देश सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को दिया है।
 
देवघर के उपायुक्त राहुल कुमार सिन्हा ने कहा कि कांवरियों की सुविधा के लिए प्रशासनिक स्तर पर तमाम तैयारियां की गई हैं। यहां आने वाले श्रद्धालुओं को बेहतर से बेहतर सुविधाएं मिले यह प्राथमिकता में है। विधि-व्यवस्था के मद्देनजर भी श्रद्धालुओं के लिए पुख्ता इंतजाम किये गये हैं।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS