छपरा
डायरिया से बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट, सीएस ने किया मेडिकल टीम का गठन
By Deshwani | Publish Date: 14/10/2019 5:03:48 PM
डायरिया से बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट, सीएस ने किया मेडिकल टीम का गठन

· प्रभावित इलाकों में छिड़काव व बचाव कार्य शुरू
· सभी पीएचसी में उपलब्ध करायी गयी ब्लीचिंग पाउडर
· प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को सिविल सर्जन ने दिया आवश्यक दिशा-निर्देश
 
छपरा। जिले में बाढ़ व जलजमाव के बाद बढ़ रही डायरिया के प्रकोप को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड में आ गया है। सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने मेडिकल टीम का गठन कर दिया है। मेडिकल टीम मुफस्सिल थाना क्षेत्र के लाल बाजार मुसहर टोली में पहुंचकर डायरिया से पीड़ित बच्चों का इलाज किया। टीम के द्वारा जरूरी दवाओं व ओआरएस के पैकेट का वितरण भी किया गया। 
 
स्वास्थ्य विभाग की ओर से वहां पर एंबुलेंस की भी सुविधा मुहैया करायी गयी है।  वहीं मेडिकल टीम के द्वारा उस इलाके में ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव किया गया तथा डायरिया बचाव को लेकर लोगों के बीच जागरूकता फैलायी गयी। जिला मलेरिया पदाधिकारी डॉ. दिलीप कुमार सिंह ने बताया कि बाढ़ जल-जमाव के कारण उस इलाके में डायरिया का प्रकोप बढ गया है। शुक्रवार को दो बच्चियों की मौत हो गयी थी। जिसके बाद से लगातार मेडिकल टीम वहां पर कैंप कर रही है। डायरिया से पीड़ित अन्य दो बच्चों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 
 
जलजमाव से होने वाली बीमारियां
अब जलजमाव के बाद बीमारियों का खतरा बढ़ गया है और इसके मद्देनजर अस्पताल में आवश्यक सभी दवाओं का स्टॉक रखा गया है। जरूरी दवाइयां पैरासिटामॉल, ओआरएस, ओंडेम, जिंक आदि दवाएं मौजूद है। जहां भी जमीन सूख रही है, उन इलाकों में ब्लीचिंग पाउडर और चूने का छिड़काव किया जा रहा है।
 
सभी पीएचसी को उपलब्ध करायी गयी ब्लीचिंग पाउडर
सिविल सर्जन ने डॉ. माधवेश्व झा ने बताया कि डायरिया को लेकर स्वास्थ्य विभाग गंभीर है और इससे निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है। जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में ब्लीचिंग पाउडर उपलब्ध करा दी गयी है। साथ हीं सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि जल-जमाव व बाढ वाले इलाकों ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव सुनिश्चित करें।  
 
सिविल सर्जन ने किया मेडिकल टीम का गठन
सारण में डायरिया से दो बच्चियों के मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड में आ गया। आनन-फानन में सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने मेडिकल टीम का गठन किया। जिसमें सदर अस्पताल के डा. राकेश कुमार, जिला स्वास्थ्य समिति के एमएनई भानू शर्मा, डीसीएम बिजेंद्र कुमार सिंह तथा अन्य चिकित्सा कर्मियों को शामिल किया गया और टीम को डायरिया से प्रभावित लाल बाजार मुसहर टोली में भेजा गया।
 
जागरूकता से ही बचाव संभव
इस मौसम में तापमान का उतार-चढ़ाव बना रहता है। इसके कारण इसमें एलर्जी और वायरल रोग से लोग अधिक पीड़ित रहते है। इसके साथ ही इस मौसम में बुखार, दस्त, कलरा, चर्म रोग, जॉन्डिस, हेपेटाइटिस ए, चिकेनगुनिया, डेंगू, टायफायड आदि रोग होने की भी अधिक संभावना बनी रहती है। ऐसे रोगों से घबराए नहीं बल्कि जागरूक रहे। जागरूकता ही आपको इस रोग से बचा सकती है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS