ब्रेकिंग न्यूज़
केविवि की स्नातक उत्तीर्ण और परास्नातक छात्राओं को मिलेगा मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना का लाभ, एकमुश्त 25000 की मिल सकती है राशिसड़क हादसे में शिक्षिका गंभीर रूप से घायल, प्राथमिक उपचार के बाद बेतिया रेफरसांसद डॉक्टर संजय जयसवाल ने उच्च स्तरीय बैठक में नेपाल बॉर्डर पर उठ रही समस्याओं के समाधान पर विचार विमर्श कियाअजय कुमार भल्ला बने नए गृह सचिव, मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने दी मंजूरीमनसे प्रमुख राज ठाकरे पूछताछ के लिए पहुंचे ईडी दफ्तर, दफ्तर के बाहर धारा-144हजारों के तादाद में युवक-युवतियां, महिलाओं समेत आम जनों ने ली भाजपा की सदस्यताआशीष परियोजना डंकन अस्पताल रक्सौल के द्वारा पनटोका पंचायत भवन के प्रांगण में नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजनएक दिवसीय प्रखंड स्तरीय कृषि समन्यवय कार्यक्रम रक्सौल के कृषि भवन में आयोजित, योजनाओं के बारे में किसानों को दी जानकारी
अंतरराष्ट्रीय
ब्रिटिश ऑयल टैंकर पर ईरान ने किया कब्जा, 23 क्रू मेंबर में 18 भारतीय भी शामिल
By Deshwani | Publish Date: 20/7/2019 2:47:07 PM
ब्रिटिश ऑयल टैंकर पर ईरान ने किया कब्जा, 23 क्रू मेंबर में 18 भारतीय भी शामिल

तेहरान। खाड़ी में रोज बढ़ रहे तनाव के बीच कभी अमेरिका और ईरान आमने-सामने आ जा रहे हैं तो कभी ईरान और ब्रिटेन के बीच तनाव देखने को मिल रहा है। इस बीच ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने शनिवार को दो टैंकर जब्त किए हैं। यूके का झंडा लगे टैंकर के क्रू में 23 लोग सवार थे, जिनमें कुछ भारतीय भी शामिल हैं। यह जानकारी कार्गों वेसल की कम्पनी स्टेना बुल्क ने दी। 

 
कंपनी ने बताया कि वेसल क्रू के नियंत्रण में नहीं है और उनसे संपर्क भी नहीं हो पा रहा है। इस दौरान कोई हताहत नहीं हुआ है और क्रू के सदस्यों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है। क्रू के 23 सदस्य भारत, रूस, फिलीपींस और लाटविया के नागरिक शामिल हैं। ईरान ने शनिवार को ब्रिटिश टैंकर को जब्त किया और अंतरराष्ट्रीय समुद्री नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में स्टेट ऑफ होर्मूस एक और टैंकर को रोका।
 
सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक ईरान ने घोषणा की है कि उन्होंने ब्रिटिश टैंकर स्टेनो इम्परों को जब्त किया है। कुछ घंटों के बाद यूएस के अधिकारी ने बताया कि ईरान ने लिबेरियन झंडा लगे एमवी मस्डार नामक एक और टैंकर को जब्त किया गया है। मस्डार के मैनेजर ने कहा कि क्रू के सभी सदस्य सुरक्षित हैं। वेसल के साथ फिर से संवाद स्थापित किया गया तब पता चला कि हथियार से लैस गार्ड्स वेसल से चले गए हैं।
 
संयुक्त राष्ट्र ने ईरान की निंदा की है और कहा है कि यह कार्रवाई अस्वीकार्य है। यह जरूरी है कि नौचालन की स्वतंत्रता बनी रहे, जिससे जहाज स्वतंत्र रूप से क्षेत्र में घूम सके।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS