ब्रेकिंग न्यूज़
केविवि की स्नातक उत्तीर्ण और परास्नातक छात्राओं को मिलेगा मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना का लाभ, एकमुश्त 25000 की मिल सकती है राशिसड़क हादसे में शिक्षिका गंभीर रूप से घायल, प्राथमिक उपचार के बाद बेतिया रेफरसांसद डॉक्टर संजय जयसवाल ने उच्च स्तरीय बैठक में नेपाल बॉर्डर पर उठ रही समस्याओं के समाधान पर विचार विमर्श कियाअजय कुमार भल्ला बने नए गृह सचिव, मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने दी मंजूरीमनसे प्रमुख राज ठाकरे पूछताछ के लिए पहुंचे ईडी दफ्तर, दफ्तर के बाहर धारा-144हजारों के तादाद में युवक-युवतियां, महिलाओं समेत आम जनों ने ली भाजपा की सदस्यताआशीष परियोजना डंकन अस्पताल रक्सौल के द्वारा पनटोका पंचायत भवन के प्रांगण में नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजनएक दिवसीय प्रखंड स्तरीय कृषि समन्यवय कार्यक्रम रक्सौल के कृषि भवन में आयोजित, योजनाओं के बारे में किसानों को दी जानकारी
अंतरराष्ट्रीय
दिल्ली से वाशिंगटन तक भारत ने बनाया दबाव, कश्मीर पर व्हाइट हाउस ने ट्रंप के बयान को पलटा
By Deshwani | Publish Date: 23/7/2019 5:55:31 PM
दिल्ली से वाशिंगटन तक भारत ने बनाया दबाव, कश्मीर पर व्हाइट हाउस ने ट्रंप के बयान को पलटा

वाशिंगटन। कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता की बात कह कर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने लिए मुसीबत खड़ी कर ली है। पहले भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की। इसके बाद अमेरिकी मीडिया ने उनकी निंदा की। स्थिति बिगड़ते देख विदेश मंत्रालय ने बयान देकर स्थिति को संभाला और अब व्हाइट हाउस ने कहा है कि कश्मीर मसला भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय मसला है। इस मसले को दोनों देश बातचीत के जरिए सुलझा सकते हैं।

 
विदित हो कि भारत ने पहले नई दिल्ली से विरोध जताया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर डोनाल्ड ट्रंप के बयान को खारिज कर दिया। इसके बाद वाशिंगटन में भी भारतीय अधिकारियों ने व्हाइट हाउस और विदेश मंत्रालय के सामने इस मुद्दे को उठाया जिसके बाद व्हाइट हाउस को सफाई जारी करनी पड़ी।
 
व्हाइट हाउस ने बयान जारी कर कहा है कि पाकिस्तान ने आतंकी संगठनों के खिलाफ कुछ कार्रवाई की है, लेकिन उसे अपनी जमीन से आतंक को पूरी तरह खत्म करने की जरूरत है। व्हाइट हाउस ने यह भी कहा कि अमेरिका की हमेशा से नीति रही है कि कश्मीर मसला भारत और पाकिस्तान के बीच का मुद्दा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर की गई टिप्पणी पर व्हाइट हाउस ने कहा कि भारत अमेरिका का सबसे घनिष्ठ मित्र है। ऐसे में अमेरिका प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय अधिकारियों के साथ आतंकवाद के खिलाफ काम करने को हमेशा तैयार है।
 
उल्लेखनीय है कि सोमवार को इमरान खान से मुलाकात के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने कश्मीर मसले पर मध्यस्थता की पेशकश की। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुझसे कश्मीर मसले पर मध्यस्थता करने को कहा है, ‘अगर मुझे ऐसा करने को कहा जाता है तो वह इसके लिए तैयार हैं। ’
 
ट्रंप के इस दावे का भारत ने विरोध किया और कहा कि नरेंद्र मोदी ने कभी भी इस तरह की पेशकश नहीं की है। अमेरिकी राष्ट्रपति के इस बयान का न केवल भारत, बल्कि अमेरिका के भी कई सांसदों ने भी विरोध किया है। डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसद ब्रैड शेरमैन ने कहा कि सभी जानते हैं कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कभी ऐसी बात नहीं करेंगे। डोनाल्ड ट्रंप का बयान गलत और शर्मनाक है।
 
 
ब्रैड शेरमैन ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा, 'मैंने डोनाल्ड ट्रंप की शौकिया और शर्मनाक गलती के लिए भारतीय राजदूत हर्ष वी श्रृंगला से माफी मांगी है।'
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS